Call Us : (+91) 0755 4096900-06 - Mail : bloggerspark@scratchmysoul.com

Movie Review

Movie Review : Agneepath

अनेक अवसरो पर भावनात्मक स्तर पर जुड़े दर्शक की आंखें गीली हो गई , और फिल्म दर्शको की कतारें देखने क

फिल्म समीक्षा ....अग्निपथ (2012)
1990 की मूल कहानी पर बनी अग्निपथ को किंचित बदलाव के साथ रिलीज हुई बदले की कहानी अग्निपथ का रिमेक(2012) .
मांडवा में रहने वाला बालक विजय दीनानाथ चौहान (मास्टर आरीष भिवंडीवाला) की आंखों के सामने उसके सिद्धांतवादी पिता (चेतन पंडित) को कांचा चीना (संजय दत्त) बरगद के पेड़ से लटका कर मार डालता है क्योंकि कांचा के बुरे इरादों की राह में मास्टर रुकावट थे।
विजय अपनी मां (जरीना वहाब) के साथ मुंबई जा पहुंचता है, जहां उसकी मां एक बेटी को जन्म देती है। विजय का एक ही लक्ष्य रहता है कि किसी तरह अपने पिता की मौत का बदला लेना। वह गैंगस्टर रऊफ लाला (‍ऋषि कपूर) की शरण लेता है।
अब विजय (रितिक रोशन) बड़ा हो चुका है। अपराध की दुनिया का बड़ा नाम है। रऊफ लाला के जरिये वह कांचा तक जा पहुंचता है और किस तरीके से बदला लेता है यह फिल्म का सार है।
फिल्म का स्क्रीनप्ले (इला बेदी और करण मल्होत्रा) बहुत ही ड्रामेटिक है। हर चीज को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया है। बारिश, आग, त्योहार के बैकड्रॉप में कहानी को आगे बढ़ाया गया है। ये चीजें अच्छी इसलिए लगती हैं क्योंकि कहानी लार्जर देन लाइफ है और ड्रामे में दिलचस्पी बनी रहती है।
फिल्म दर्शक को कहानी से जोड़े रकने में कामयाब हुई है , यही कारण रहा कि थियेटर में अनेक अवसरो पर भावनात्मक स्तर पर जुड़े दर्शक की आंखें गीली हो गई , और फिल्म दर्शको की कतारें देखने को मिल रही हैं .
इंटरवल के पहले वाला हिस्सा बेहद मजबूत है। इंटरवल के बाद फिल्म की गति सुस्त होती है। कुछ गाने और दृश्य रुकावट पैदा करते हैं, लेकिन इनकी संख्या कम है।
क्लाइमेक्स में फिर एक बार फिल्म गति पकड़ती है, हालांकि क्लाइमेक्स थोड़ा जल्दबाजी में निपटाया गया है।

Post your comment

Recent Books

Profile

Agneepath
Category : Action
Movie Title : Agneepath
Director : Karan Malhotra
Producer : Hiroo Johar, Karan Johar
Casts : Hrithik Roshan, Priyanka Chopra, Sanjay Dutt, Rishi Kapoor
Release Date : 26 January 2012

In a small Indian village Mandwa, Vijay Dinanath Chauhan is taught by his principled father about the path of fire Agneepath. His life is completely shattered when the evil drug dealer Kancha hangs his father to death. Vijay leaves for Bombay with his pregnant mother and has only one mission in life - to come back to Mandwa and bring back the glory of his fathers name. In Bombay, 12-yr-old Vijay is taken under the wings of the city gang lord Rauf Lala.

Recent Reviews

Samsung

Other Movie Reviews

Sony