Call Us : (+91) 0755 4096900-06 - Mail : bloggerspark@scratchmysoul.com

Surendra Kumar Shukla Bhramar Shukla Bhramar : Blogs

Blogs

नर्सिंग होम

नर्सिंग होम ; कुकुरमुत्ते सा उगा ; व्यापार का नया धंधा ; फलता -फूलता ; ना हो कभी मंदा ; मेडिकल वाले उन्हें ही ; अच्छा बताते हैं ; रिक्शे वाले भाई ; पकड़ यहाँ लाते हैं ; भाड़ा...

read more

मेरी आँखों में झांको तो

मेरी आँखों में झांको तो; =====================; दो चार महीने का बच्चा वो; उस किरण पुंज में झांक रहा है; आभा-रिश्ता-प्रिय-चाहे क्यों??; तिमिर अकेले चीख रहा है; ये किरणे उसके आशा की कि...

read more

लोरी गा के मुझे सुलाना

लोरी गा के मुझे सुलाना; --------------------------; माँ बूढी पथरायी आँखें ; जोह रही हैं बाट ; लाल हमारे कब आयेंगे ; धुंध पड़ी अब आँख ; ............................; जब उंगली पकड़ाय...

read more

मै आतंकी बनूँ अगर माँ खुद "फंदा" ले आएगी

मै आतंकी बनूँ अगर माँ खुद "फंदा" ले आएगी; हम सहिष्णु हैं भोले भाले मूंछें ताने फिरते; अच्छे भले बोल मन काले हम को लूटा करते; भाई मेरे बड़े बहुत हैं खून पसीने वाले; अत्याचार सहे हम पैदा बुझ...

read more

नयन 'ग्रन्थ' अनमोल 'रतन' हैं

नयन ‘ग्रन्थ’ अनमोल ‘रतन’ हैं दुनिया इनकी दीवानी; आत्म-ब्रह्म सब ‘भाषा’ पढ़ के डूब गए कितने ज्ञानी; ना भाषा से ना भौगोलिक नहीं कभी ये बंधते; पाखी सा ये मुक्त डोलते हर मन पैठ बनाते; प्र...

read more

मेह सावन की "बदली" नहाने लगी

मेह सावन की ‘बदली’ नहाने लगी; रूप पल -पल बदलती रही रात भर; चांदनी जिस्म से छल-छ्लाने लगी; वो छन-छन छनक आ मिली नैन से; मुझको चातक चकोरा बनाने लगी; रूपसी -प्रेयसी झिलमिलाती दिखी; जुल्फ...

read more

ओ माँ ओ माँ ???..प्रेम सुधा रस प्राण-दायिनी जान हमारी ?माई? है

प्रेम सुधा रस प्राण-दायिनी जान हमारी “माई” है; ओ माँ ओ माँ ………..; —————–; मै अनभिज्ञं रहा था कुछ दिन नाल तुम्हारे लटका; अंधकार था सोया संग -संग साथ तुम्हारे भटका; चक्षु हमारे भले बंद थे...

read more

इन्सां

इन्सां ने इन्सां को ; इन्सां सा प्यार दिया ; स्वर्ग धरा लाये आज ; जिन्दगी संवार लिया ; -------------------------

read more

जंग

जंग से जमीन में ; घाव बहुत होते हैं ; जख्म गर भरे भी तो ; रोम-रोम रोते हैं !; --------------------;

read more

आकार !

गीली सी मिटटी है ; प्यारा कुम्हार ; पीट पीट ढाल रहा ; सांचे में खांचे में ; देता आकार !; -------------------------;

read more

कोख में ही मार दिया ? -------------------------------

; बेटियों ने बेटों को ; जी भर के प्यार दिया ; बेटों ने बदले में ; कोख में ही मार दिया ?; -------------------------------;

read more

भारत देश हमारा प्यारा

भारत देश हमारा प्यारा; बड़ा अनोखा अद्भुत न्यारा; शत शत इसे नमन …….; ————————————; तरह तरह की भाषाएँ हैं; भिन्न भिन्न है बोली; रहन सहन पहनावे कितने; फिर भी सब हमजोली; भारत देश ह...

read more

मेरा भारत महान

मेरा भारत महान; -------------------; ऊपर से हरा भरा दीखता ; लहलहाता -झूमता ये पेड़ ; पोपला है ; अन्दर से खोखला है ; इस के अन्दर रहते बड़े-बच्चे ; कभी कभी जब ये ; भाँप जाते हैं ...

read more

भूख बड़ी बेरहम शिकारी

HAPPY MAKAR SANKRANTI TO ALL OF MY BELOVED FRIENDS ..........
प्रिय मित्रों अब मौन रहना श्रेयस्कर होगा आगे अब सरकार का शिकंजा कसना शुरू है और मुकदमे की मंजूरी सोशल साईट के लिए मिलने लगी हैं …
...

read more

नारी

( naari फोटो साभार गूगल/नेट से ); नारी; ————-; श्वेत विन्दु -हिम अंचल उपजी; पुरुष-जटा -तृण-पत्थर उलझी; है गंगा सी धारा; शीतल -पावन -करती जाती; भूख मिटाती; प्यास बुझाती; सुख ...

read more

HEARTY WISHES ON THE EVE OF BAAL DIWAS

MY HEARTY WISHES ON THE EVE OF BAAL DIWAS ...AAO JAISE BACHCHE HAIN MN KE SACHCHE HM BHI BAN JAAYEN ...........
BHRAMAR5

read more

About The Author

Photograph

Surendra Kumar Shukla Bhramar Shukla Bhramar

Media/Journalist/Author

Uttar Pradesh ,  INDIA

A SIMPLE LIVING AND HIGH THINKING MAN..HONESTY IS MY MEDAL ..LOVE..CHILDREN, FLOWERS , MUSIC....LOVE MAKING GOOD FRIENDS, CREATIVITY..LITERATURE, WRITING AND READING, BLOGGING IN HINDI MAINLY HINDI POEMS .....LET US JOIN HANDS TO KEEP QUALITY AND SUPPORT THE HONESTY ..KARM HI POOJA HAI .....

SHUKL BHRAMAR5 
BHRAMAR KA DARD AUR DARPAN
http://surenrashuklabhramar.blogspot.com

View More...

Samsung

Other Recent Posts

Gitanjali